10 best- inpirational stories in hindi ever.

inspirational stories in hindi for student

The story of two friends journey in desert.

inspirational stories in hindi for student
inspirational stories in hindi for student

दो दोस्त एक रेती इलाके (desert) से गुजर रहे थे, जब अचानक से एक ऐसा समय आया जब उन दोनों के बीच कुछ बात को लेकर बेहेस हो गई। तब बातों ही बातो में एक दोस्त ने दूसरे दोस्त को लाफा मार दिया।
अब जिसे लाफा पड़ा उसे बहुत दुख हुआ, पर उसने कुछ नहीं कहा बस नीचे पड़ी रेत पर लिख दिया, आज मेरे दोस्त ने मुझे दुख पोचाया।

फिर से वो दोनो आगे बड़ने लगे, चलते चलते वो एक समुंदर के पास पाउच गए। वाह पर उन्होंने यह तय किया की वो इसमें हाथ मु धो लेते है। अब पहले जिस दोस्त को लाफा पड़ा था वो हाथ मु धोने के लिए समुंदर के करीब गया तो उसका पाव फिसल गया, तो वो डूबने लगा। अब दूसरे दोस्त ने कैसे कैसे करके उसकी जान बचा ली।
अब इसने कुछ कहा नहीं, वाहा पर एक पत्थर था उस पर फिर से लिखने लगा, आज मेरे दोस्त ने मेरी जान बचाई।

अब पहला दोस्त इससे पूछने लगा, की जब मैंने तुझे दुख पौचाया तब तूने रेत पर लिखा, और जब मैंने तेरी जान बचाई तब तूने पत्थर पर लिखा ऐसा क्यों।उसने जवाब दिया अगर कभी कोई तुम्हे दुख पौचाए तो उसे रेत पर लिखना, की आती जाती हवाए उसे मिटा कर चली जाए।
और जब तुम्हे कोई खुशी दे तो उसे पत्थर पर लिखना के कोई उसे मिटा ना सके।

[ सीख ] :  ज़िन्दगी में अच्छी चीजों पर ध्यान दे और बुरी चीजों को भूल जाए।

The story of four friends.

classroom
inspiration

चार विद्यार्थी एक दूसरे के बहुत अच्छे दोस्त थे, अब जहा वो पढ़ाई करते थे, वहीं पर वो रहते भी थे।
अब एक रात वो चारों विद्यार्थी सबसे छुप कर अपने कॉलेज से निकल कर पार्टी करने गए, जहा पर उन्होंने खूब मज़े किए। पर वो चारों यह भूल गए थे के अगले दिन सुभा उनका टेस्ट है, और उन्होंने इस टेस्ट को लेकर कुछ पढ़ा भी नहीं था।

सुभा जब टेस्ट का समय हुआ, तो उन्होंने एक प्लान बनाने का सोचा के वो अपने गुरु को कुछ भी बोल कर टेस्ट कैंसल करवा देगे। अब वो सब अपने गुरु की ऑफिस में गए और कहा गुरुजी कल रात हम एक दोस्त की शादी में गए थे और वापिस लौट ते वक़्त हमारी गाड़ी का टायर पंचर होगया, हमे उस गाड़ी को धक्का मार कर लाना पड़ा। इस कारण हम टेस्ट की तयारी नहीं कर पाए।
गुरुजी ने उनकी यह झुटी कहानी सुन ली और कहा अब तुम्हारा टेस्ट ३ दिन के बाद होगा, वो चारों यह सुन कर बड़े खुश होगए।

३ दिन उन्होंने खूब तयारी की टेस्ट की, अब टेस्ट का समय आगया। गुरुजी ने चारों को अलग अलग कमरे में बहठाया। उन चारों को कोई टेंशन नहीं थी, क्युकी इस बार उन्होंने पड़ा था।
अब टेस्ट शुरू हो गया, गुरुजी ने सब को क्वेश्चन पेपर दे दिया, पेपर देखने के बाद चारों हके बके हो गए, क्युकी उसमें सिर्फ दो ही प्रशन थे।


१) तुम्हारा नाम _____________।     ( १ मार्क्स )
२) कौनसा टायर पंचर हुआ था ____________ ।  ( ९९ मार्क्स )

[ सीख ] : हमेशा सच बोलना चाहिए।

The story of icecream shop.

inspirational stories in hindi for student
inspirational stories in hindi for student

एक छोटा सा बच्चा एक आइसक्रीम कि शॉप पर आइसक्रीम खाने गया। वहा पर बहुत भीड़ थीं, पर उसे एक टेबल खाली मिल गया, जहा पर वो बैठ गया। 
अब वेटर आया उसके टेबल पर एक ग्लास पानी रख कर चला गया। फिर से थोड़ी देर बाद वेटर आया, और उससे पूछने लगा कि आप को क्या चाहिए।

बच्चे ने उससे पूछा की एक आइसक्रीम की प्लेट कितने की है, वेटर ने जवाब दिया कि ५० रुपया, बच्चा अपनी जेब से पैसे निकाल कर गिनने लगा, अब शॉप पर पहले से ही भीड़ थी और भी वेटिंग लाइन में खड़े थे। वेटर गुस्से के मारे बच्चे के पास से चला गया। फिर थोड़ी देर बाद आया, तो फिर वो बच्चा पूछने लगा कि एक सिंगल आइसक्रीम कितने की है, वेटर ने कहा ३५ रुपया, अब फिर से बच्चा जेब से पैसे निकाल कर गिनने लगा। 

फिर वेटर और घुस्से में आग्या, फिर उसने घुस्से से उससे पूछा कि क्या चाहिए, फिर बच्चे ने एक सिंगल आइसक्रीम ऑर्डर करदी।
आइसक्रीम खा कर बच्चा पैसे देकर चला गया, अब जब वेटर टेबल साफ करने गया तो वहा टेबल पर १५ रुपया टिप रखी थी। 

[ सीख ] हमारे साथ जो बुरा करे हमे उसके साथ भी अच्छा करना चाहिए ।

The story of elephant and a rope.

elephant standing in a jungle.
elephant and a rope

एक बार एक आदमी हातियों के झुंड के पास से गुजर रहा था, वहा पर बहुत सारे हाति (elephant) रसी से बंदे हुवे थे, क्या रासी आप सब भी यह ही सोच रहे होगे जैसा यह व्यक्ति सोच राहा था। इस आदमी के मन में भी यह ही खयाल था, की आखिर इन हाथियों को रासी से बांदा हुआ है तो यह तोड़ कर भाग क्यों नहीं जाते, इनके लिए तो यह बहुत मामूली ( easy ) बात है। पर फिर भी यह सारे हाथी वहीं के वहीं खड़े हुवे है। यह सब देखकर वा व्यक्ति सोच में पड़ गया। 

अब अचानक से उस व्यक्ति की नजर हाथियों के मालिक पर पड़ी, तो अब उससे राहा नहीं गया, वो मालिक की योर गया और पूछने लगा, भाई यह जो सारे हाथी जिनको तुमने रस्सी ( rope ) बांद कर रखा है, तो यह रस्सी तोड़ कर भागते क्यू नही, जबकि इनके लिए तो बहुत मामूली बात है।
हाथियों के मालिक का जवाब।

भाईसाहब जब यह सब छोटे थे, तब से इनको हम रस्सी से बांध कर रखते थे, जब बचपन में यह रस्सी तोड़ने की कोशिश करते तो इनसे यह हो नहीं पाता था। तब से यह बात इनके मन में बेट चुकी है कि यह रस्सी नहीं टूटेगी। इसलिए अब यह कोशिश ही नहीं करते ।

सीख ) पूरी दुनियां हमे पीछे करने का क्यू नहीं सोच रही हो, बस हमे अपनी सोच के एक समान रखना है, की तुम यह कर सकते हो, तो फिर आपके लिए कुछ मुश्किल नहीं, ( believe in yourself )

The story of a king and a poor man.

inspirational stories in hindi for student
inspirational stories in hindi for student

एक बार एक शहेर में एक लालची राजा था, और उसी शहेर में एक मजदूर आदमी भी रहता था जिसके साथ उसकी एक खूबसूरत सी बेटी थी। अब एक दिन ऐसा आया जब उस मजदूर आदमी को पैसे की बहुत आवश्यकता हो गई। अब उस मजदूर के पास तो इतने पैसे थे नहीं। तो उस मजदूर ने शाहेर के राजा से एक बड़ी रकम उदार लेली।
वक़्त गुज़र ता गया, अब राजा के पैसे लौटाने का समय आ गया, पर वो मजदूर उतने पैसे जमा नहीं कर पाया कि वो राजा को लौटा सके।अब राजा करता भी तो क्या करता उसके पास ऐसी कोई कीमती वास्तु भी नहीं थी जो राजा ले सकता था।
अब राजा की नजर मजदूर की खूबसूरत बेटी पर चली गई। अब राजा के दिमाग में एक तरकीब सुजी।

राजा ने उस मजदूर के सामने एक शर्त रकदी। राजा ने मजदूर से कहा कि वो उससे एक सौदा करना चाहता है।राजा ने कहा कि वो एक कपड़े में दो पत्थर रखेगा जिसमें से एक का रंग सफेद होगा और दूसरे का काला।अब अगर मजदूर की बेटी उस कपड़े में से काला पत्थर निकालती है तो वो उसके सारे उदार के पैसे माफ करदेग पर मजदूर की बेटी को उस लालची राजा से शादी करना पड़ेगा, और अगर सफेद निकाल ती है तो वो पैसे भी माफ करदेगा और शादी भी नहीं करेगा।
अब सभी लोगो को बुलाया गया राजा कपड़ा लेकर खड़ा होगया, राजा ने ज़मीन पर पड़े बहुत सारे पत्थरों में से दो पत्थर उठाए, पर राजा ने दोनों भी पत्थर काले ही कपड़े में छुपाए, मतलब अभी मजदूर का हारना तय था, पर मजदूर की बेटी ने देख लिया कि राजा ने दिनों भी पत्थर काले ही छुपाए है।

अब मजदूर की बेटी के पास दो विकल्प ( choices ) थी।
१) सब को बतादे की कपड़े में दोनों पत्थर काले ही है पर ऐसा करने से उसके पापा का पैसा माफ नहीं होता।
२) काला पत्थर निकाल कर उस लालची से शादी करले और अपने पापा का पैसा माफ करादे।
पर उसको उस लालची से शादी भी नहीं करनी थीं और अपने पापा का पैसा भी माफ कराना था।
तो अब उस लड़की ने क्या किया ?
उसने उस कपड़े में से पत्थर निकाल कर नीचे गिर दिया जहा पर बहुत सारे पत्थर पड़े हुवे थे। और राजा को कहा कि वो कपड़े में देखले कौनसा पत्थर बच्चा है। अब उस कपड़े में काला ही पत्थर बच्चा होगा क्युकी दोनों भी काले थे। अब लोगो की नजरो में उस लड़की ने जो पत्थर निकाला वो सफेद था क्युकी उसने वो नीचे गिरा दिया। इस प्रकार उस लड़की ने अपने पापा का पैसा भी माफ करवा दिया और उस लालची से बच भी गई।

[सीख] हमेशा अपने दिल की सुन कर फैसला नहीं करना चाहिए, कभी कबार अपने दिमाग का भी इस्तेमाल करना चाहिए।

The story of donkey and a man.

the donkey walking on a grass
donkey and a man.

एक बार एक गधा ( donkey ) और उसका मालिक एक जंगल से गुजर रहे थे, चलते चलते अचानक से गधा एक बड़े खड्डे में गिर गया। अब मालिक बहुत परेशान हो गया, की अब वो इसे कैसे निकलेगा अब मालिक के कुछ समझ नहीं आ रहा था, पर वो कोशिश करने में जुट गया।
बहुत घंटे कोशिश करने के बाद भी वो गधा बाहर नहीं निकल पाया, अब मालिक के लिए वो गधा बहुत ही कीमती था, वो करता भी तो क्या करता उसे ऐसे छोड़ कर भी नहीं जा सकता था, अगर छोड़ कर जाता तो गधा कुछ दिनों बाद यूहीं मर जाता। 

अब उसने सोचा कि कुछ दिन इतनी कठिनायों से गुजरने के बाद यह मरेगा, इससे अच्छा अभी में इसको आसान मौत दे कर मार देता हूं, मालिक अपने गधे को तकलीफ में नहीं देख सकता था, इसलिए उसने उस खड्डे में मिट्टी डालना शुरू कर दिया कि गधा अभी ही मर जाए तो उसके इतने दिन कठिनाइयों से नहीं गुजरना पड़ेगा।

अब मालिक मिट्टी डालता राहा और गधा अपने पैरो से मिट्टी को नीचे दबाता राहा, कुछ घंटो तक मालिक मिट्टी भरता रहा और गधा अपने पैरो से नीचे दबाता राहा ऐसा करते करते गधे ने पूरा गड्ढा भर दिया और वो खुद अपने आप ज़मीन के समान आगाया। इस तरह गधा उस खड्डे से बाहर निकाल आया।

[सीख] तुम्हे अपनी मुसीबत के साथ नहीं जीना चाहिए, बल्कि उन्ही मुसीबतों से कुछ सीख कर आगे बढ़ना चाहिए।

The story of rock,pebbles and sand.

inspirational stories in hindi for student
inspirational stories in hindi for student

एक आदमी अपने शेहर के सबसे बड़े विद्यालय का शिक्षाक था। वो पढ़ाने में भी बहुत अच्छा था। 
एक दिन वो शिक्षक अपने क्लासरूम में एक ग्लास ले कर पाउच गया। साथ में तोड़े बड़े पत्थर, थोड़े छोटे पत्थर और थोड़ी सी मिट्टी भी लेकर गया।

अब क्लास शुरू हो गई, बच्चो के सामने उसने उस ग्लास में पहले बड़े पत्थर डाले, उसने बड़े पत्थरों से पूरा ग्लास भर दिया, फिर वो बच्चो से पूछने लगा कि यह भर चुका है ये नहीं, बच्चो ने कहा जी गुरुजी भर चुका है।

उसने छोटे पथर उठाए और ग्लास में भरने लगा, बड़े पत्थरों के बीच जीतने खड्डे बच्चे थे उस ने उन सबको छोटे पत्थरों से भर दिया, फिर उसने बच्चों से पूछा कि अब ग्लास भर गया, बच्चो ने फिर से कहा। जी गुरुजी यह पूरी तरह भर चुका है।
अब उसने उसमें रेत डालने का तय किया, पर उस ग्लास में बहुत कम रेट ही जा पाई, क्युकी अंदर पहले से ही बड़े और छोटे पत्थरों ने जगा घेर ली थी।

[सीख] तुम्हे अपने वक़्त अच्छी चीजों में लगाना चाहिए, अपना वक़्त बुरी चिजो में वास्ट नहीं करना चाहिए।

The story of woodcutter.

The wood of a tree
story of woodcutter

एक बार एक शहर में एक लकड़ी काटने वाला आया था नौकरी की तलाश में, तो शहर के राजा ने उसे पेड़ काटने की नौकरी दीदी।
वो पूरी मेहनत और लगन से काम करता था, पहिले महीने में ही उसने १८ पेड़ काट दिए, राजा उसकी इस मेहनत और काम से बहुत प्रभावित होगया।

अब दूसरा महीना भी उसने उतनी ही मेहनत और लगन से काम किया, पर इस बार वो सिर्फ १५ ही पेड़ काट पाया। 
अब तीसरा महीना आ गया, इस बार वो १५ भी नहीं सिर्फ १२ पेड़ ही काट पाया। इस बात को लेकर वो बहुत परेशान होगया, की उसने हर महीना उतनी ही लगन और मेहनत से काम किया, फिर उसकी काटने की उरझा कम कैसे हो गई।

यह सब सुन कर राजा लकड़ी काटने वाले की घर पाउच गया।
राजा ने उससे सवाल किया, की ऐसा क्यों।
उसने कहा कि शायद अभी उसमें उतनी ताकत नहीं है यह फिर वो इस काम के लायक नहीं है, राजा को अफसोस होने लगा।
राजा लकड़ी काटने वाले से पूछा कि जिस वास्तु से तुम पेड़ काटते हो, तुमने उसे कब धार किया था, लकड़ी काटने वाला बोला कि बहुत समय हो गया जब उसने उस वास्तु को धार किया होगा, तो असली वजह तो यह थी।

[सीख] अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ना अच्छी बात है, पर थोड़ा वक़्त अपने परिवार को अपने आप को भी देना ज़रूरी है।

The story of a blind girl.

inspirational stories in hindi for student
inspirational stories in hindi for student

एक शहर में एक लड़की रहती थी, जो बिचारी आंधी थी, इस बात को लेकर वो खुद से बहुत नफरत करती थी, पर एक लड़के से वो बहुत प्रेम करती थी।
अब एक दिन उस लड़के ने उसको शादी का निमंत्रण दिया, की वो उससे शादी करेगी। अब लड़की थोड़ी भावुक हो गई। पर वो उस लड़के से बहुत प्रेम करती थी।

उस लड़की ने उसके प्रेमी से कहा कि अगर उसकी आंखे आजाए तो वो उससे देखना चाहती है, फिर उससे शादी कारलेगी।
अब लड़का इस बात को लेकर हैरान होगया। पर लड़का भी बहुत प्रेम करता था उससे। तो लड़के ने अपनी आंखे उस लड़की को देदी।

अब लड़की को पता नहीं था कि यह आंखे उसी लड़के की है। अब लड़की सब कुछ देखने लगी, अब जब उसने उसके प्रेमी को देखा तो उसकी आंखे ही नहीं थी तो उस लड़की ने शादी के लिए मना कर दिया।
लड़का रोता हुआ वहा से चला गया और उसने एक खत लिख कर गया।
उस खत में लिखा था कि मेरी आंखो का खयाल रखना।

[सीख] हमे परिस्थिति के साथ बदलना नहीं चाहिए, सब की भावनाओ का खयाल रखना चाहिए।

The story of group of frogs.

frog sitting on a branch
story of group of frogs

एक जंगल से मेंडक का झुंड गुजर कर जा रहा था। चलते चलते वो अधा जंगल पार कर चुके थे। अचानक उसमें से दो मेंडक एक बड़े से खड्डे में गिर गए। 
अब वो खड्डा इतना गहरा था, की उनका ऊपर आना तो मुश्किल ही था। बाकी जो मेंडक ऊपर थे उन्होंने ने उम्मीद छोड़ दी।
वो दोनो नीचे गिरे हुवे मेंडक पूरी कोशिश कर रहे थे। ऊपर के मेंडक चिला चिला कर के रहे थे, की तुम अब ऊपर नहीं आ सकते, तुम दोनों कोशिश मात करो।

पर वो दोनो मेंडक अपनी पूरी कोशिश कर रहे थे, किसी की बात नहीं सुन रहे थे। और ऊपर के मेंडक उन्हें कोशिश करने से लगातार माना कर रहे थे, क्युकी उनका बाहर आना मुश्किल था अब।
अब बहुत देर तक कोशिश करने के बाद भी वो ऊपर नहीं आ पाए, उसमें एक मेंडक ने आखिर कार हार मानली और कोशिश करना छोड़ दिया।

पर दूसरा मेंडक किसी की भी बात ना सुन कर कोशिश कर ता राहा और बाहर निकल आया।
अब वो जब ऊपर आया तो दूसरे मेंडको ने उससे पूछा कि जब वो चिला चिला कर कह रहे थे, की नहीं होगा तब उसे सुनाई में नहीं आ रहा था क्या ?
तू उस मेंडक ने जवाब दिया कि उसे दूर का सुनाई नहीं आता है, उसे पूरा वक़्त यही लगता रहा कि सब उन्हें कोशिश करने को कह रहे थे, इसलिए वो कोशिश कर ता जा रहा था। और बाहर निकल आया।

[सीख] अपने शब्दो का इस्तेमाल सोच समाज कर करे, आप के शब्द किसी की ज़िन्दगी बना भी सकते और बिगाड़ भी सकते है।

We hope you love this inspirational stories in hindi for student, if you like it, then don’t forget to comment and share.

One thought on “10 best- inpirational stories in hindi ever.

  • July 8, 2019 at 1:45 pm
    Permalink

    All story are nice and so good

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: